Lakhimpur Kheri News IN Hindi ताज़ा खबर, जानिए कोर्ट ने क्या कहा

Lakhimpur Kheri News IN Hindi ताज़ा खबर, जानिए कोर्ट ने कहा
Image source - Google | Image by -

 लखीमपुर खीरी में जो हिंसा हुयी है उस हिंसा से जो राजनीतिक विवाद उत्पन हुआ है उस विवाद से पुरे UP का माहौल गरमाया है कॉग्रेस के  दिग्गज नेता जैसे राहुल गाँधी, प्रियंका गाँधी के समेत कॉग्रेस के प्रितिनिधि मंडल  हादसे में मरे लोगो के परिवार से बुधवार के दिन मुलाकात की और उन्होंने सरकार  न्याय की मांग  की है और कहा न्याय चाहिए मुआवजा नहीं

 भाजपा सरकार ने कॉग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा की आने वाले विधान सभा चुनाव में लाभ पाने के लिए कॉग्रेस ये सब कर रही हैइसी बीच सुप्रीम कोर्ट ने भी फैसला लेते हुए एक मामला दर्ज किया है कार्यवाही गुरुवार से शुरू होगी इसकी उम्मीद है 

लखीमपुर खीरी के हादसे के 4 दिन बाद आज सुप्रीम कोर्ट ने मामला जानना चाहा के  "कितनो को हिरासत में लिया है" और राजय सरकार से वहां की पूरी स्थिती की रिपोर्ट की मांग की है अदालत  ने कहा है के कल ही वहां की सारी स्थिति की रिपोर्ट सबमिट की जाये जिसमे रविवार को अजय मिश्रा के द्वारा किये गए दौरे के ऊपर किये गए विरोध की करवाई हो और जितने भी लोग मरे या ज़ख़्मी हुए उन सब का ब्योरा दिया गया हो 

सुप्रीम कोर्ट ने UP पुलिस से सवाल पूछा "अदालत ने कहा रिपोर्ट में हमे जितने भी लोग मरे या ज़ख़्मी हुए उनके बारे में भी हमे जानकारी दें" अदालत ने कहा यह एक दुर्भाग्य पूर्ण घटना है अदालत ने पूछा "हमें जानकारी दें के आपने किसके विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करी है और आपने कितने लोगो को वह से हिरासत में लिया 

कल एक वीडियो सामने आयी जिसमे यह साफ़ साफ़ नज़र आ रहा है के लखीमपुर खीरी में चल रहा विरोध तक पूरी शान्ति से चल रहा था जब तक गृह मंत्री अजय मिश्रा के तेज गाड़ियों के काफिले ने विरोध कर्ताओं पर पीछे से नहीं मारा था अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर आरोप है के तेज रफ़्तार से किसानो के ऊपर से दौड़ती हुयी SUV को वो खुद  चला थे 

आशीष मिश्रा के ऊपर रिपोर्ट तो दर्ज हुयी है पर अभी तक उन्हें हिरासत में नहीं लिया गया और ना ही  कोई पूछताछ की गयी है 

वकील शिवकुमार त्रिपाठी ने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखा उन्होंने पत्र में लिखा है "किसानो की मौत  का कारण वहाँ के अधिकारीयों की लापरवाही है" श्री त्रिपाठी ने एक प्राथमिकी के लिए कहा "क्युकि किसान डरे हैं और पीड़ित हैं उतर प्रदेश की सरकार ने कहा है के रिपोर्ट दर्ज करली है और जो भी आरोप है उनकी सारी जांच उचित रूप से की जाएगी 

मुख्या न्यायाधीश रमना जी ने कहा,"शिकायत यह है के आप उचित रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रहे और मामले की जांच भी सही से उचित र्रोप में नहीं हो रही" मुख्या न्यायाधीश महोदय ने ये भी है के सुनवाई के दौरान अदालत को ये संदेश भी मिला के लखीमपुर खीरी के हादसे में मारा गए एक किसान जिसकी माँ की हालत भी काफी गंभीर है 

 न्यायाधीश महोदय ने यह भी कहा के," सुनवाई के जो संदेश मिला उसमे ये भी लिखा है के मृतकों में से एक मृतक की माँ को उसके बेटे की मौत का जब से पता चला है तब से उसकी  चिकित्सा स्थिति काफी गंभीर है और उन्होंने कहा की अदालत UP सरकार को निर्देश देते हैं के चिकित्सा देखभाल के लिए उनकी सहाय्यता की जाये"

न्यायमूर्ति सूर्यकांत ने सरकार को निर्देश दिया है, "उनको पास के सरकारी मेडिकल कॉलेज में जल्दी दाखिल करवाया जाये"


टिप्पणियाँ